राजस्थान के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल | rajsthan best visit place | विस्तार से जिले वाइज जानिए

आज हम जानेंगे राजस्थान के प्रमुख पर्यटक स्थल और हम इसको क्रम वाइज  हम आपको समझा रहे है  कृपया ध्यान से पढ़ें और पूरा पढ़ें और साथ ही राजस्थान ऑल इंडिया जीके रिलेटेड क्वेश्चंस जीके महत्वपूर्ण प्रश्न के लिए हमारे चैनल को बुकमार्क करें या फॉलो करें तो आइए जानते हैं राजस्थान के पर्यटन स्थल के बारे में
 
जयपुर को Iconic Tourism Destination के रूप में स्थापित करने की घोषणा।
➡️कोटा, भीलवाड़ा, अजमेर, झालावाड़, बाड़मेर, जोधपुर, जैसलमेर,चूरू, बीकानेर, बारा, उदयपुर एवं भरतपुर में स्थित 19 स्मारकों के संरक्षण एवं पुनरूद्धार कार्यों पर 33.25 करोड़ व्यय करने की घोषणा।
➡️बाँसवाड़ा क्षेत्र में 10 करोड़ की लागत से 100 Islands क्षेत्र का विकास किया करने की घोषणा।
➡️ विजवा माता मंदिर, डूंगरपुर, लोहार्गल तीर्थ, झुंझुनूं और मुरली मनोहर मंदिर तथा रघुनाथ मंदिर रतनगढ़ चूरू के विकास हेतु 10 करोड़ का प्रावधान।
➡️अलवर में राजा भर्तृहरि, भीलवाड़ा के मालासेरी में भगवान देवनारायण, राजसमंद में महाराणा कुंभा माल्यावास मदारिया,सीकर में भक्त शिरोमणी करमेती बाई खंडेला, अजमेर में श्री सैन महाराज, पुष्कर एवं चित्तौड़गढ़ भगवान श्री परशुराम मातृकुण्डिया के 6 पैनोरमा के निर्माण के कार्य की घोषणा।
➡️ वर्ष 2017 में 475.27 लाख पर्यटकों द्वारा (459.17 लाख स्वदेशी एवं 16.10 लाख विदेशी) राजस्थान का भ्रमण किया गया।
➡️ जनजाति स्वतंत्रता संग्राम संग्रहालय मानगढ़ धाम में स्थापित किया गया है।

( कला व संस्कृति के पर्यटन स्थल)

💠स्वामी विवेकानन्द की स्मृतियों से जुड़े हुए खेतड़ी के फतेहविलास महल के शेष रहे जीर्णोद्धार एवं संरक्षण के कार्य आगामी वर्ष में पूरे कराये जायेंगे।

💠 मौलाना अब्दुल कलाम आजाद अरबी फारसी शोध संस्थान, टोंक में प्राचीन दुर्लभ हस्तलिखित ग्रंथों का अमूल्य संग्रह हैं। इन हस्तलिखित ग्रंधों को बचाने के लिए इनका digisation 12 करोड़ 50 लाख रूपये की लागत से करवाया जायेगा।

💠चित्तौड़गढ़ किले के संरक्षण तथा Systematic विकास के लिए ASI की सहमति व सहभागिता से( Chittorgarh Fort Development Authority) का गठन किया जायेगा। 

💠आगामी वर्ष में चालकनेची पेनोरमा, चालकना (तन्नोट माता जन्मस्थान)-बाड़मेर, कृष्ण भक्त अलीबख्स पेनोरमा, मुण्डावर-अलवर, मावजी महाराज पेनोरमा, बेणेश्वर-डूंगरपुर एवं निम्बार्काचार्य पेनोरमा, सलेमाबाद-अजमेर के कार्य 11 करोड़ रूपये की लागत से करवाये जायेंगे।

💠राज्य की महत्वपूर्ण वक्फ दरगाहों जैसे दरगाह हजरत सूफी हमीदुद्दीन नागौर जिला नागौरी, दरगाह अधरशिला, कोटा, दरगाह ख्वाजा हमीदुद्दीन चिश्ती उर्फ मिठेहाबली गागरोन जिला झालावाड़ तथा दरगाह हजरत मीरा साहब बूंदी को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा।

💠पयर्टन एक ऐसा उद्योग है जिसेक निधुम उद्योग (प्रदूषण रहित)
कहते है।

💠 पयर्टन उद्योग देश का दूसरा ऐसा बड़ा विदेशी मुद्रा अर्जित करने वाला उद्योग है। (दूर संचार-पहला)

💠भारत में आने वाले विदेशी पर्यटकों में से हर तीसरा पर्यटक राजस्थान में आता है।

💠राजस्थान में विदेशी पर्यटकों के आगमन की दृष्टि से वर्ष
2016-17 में फ्रांस प्रथम स्थान पर रहा, जहां से कुल विदेशी
पर्यटकों के 14.07 प्रतिशत राजस्थान आए। तत्पश्चात यूके के 9.50 प्रतिशत, यूएसए 9.45 प्रतिशत, जर्मनी 7.55 प्रतिशत तथा शेष अन्य देश रहे।

💠राजस्थान में सर्वाधिक विदेशी पर्यटक - नवम्बर व सबसे कम - जून में आते है।
💠3 जून, 2015 को पर्यटन इकाई नीति-2015 अधिसूचित की गई।
💠राजस्थान में सर्वाधिक विदेशी पर्यटक- 1. जयपुर 2.
उदयपुर
💠सर्वाधिक देशी पर्यटक-सितम्बर माह में व सबसे कम जनवरी माह में आते है।
💠राजस्थान में सर्वाधिक देशी पर्यटक- 1. अजमेर 2. पुष्कर
💠वर्तमान में राजस्थान में कुल 4 पर्यटन संभाग है- 1. जोधपुर2. उदयपुर 3. कोटा 4. अजमेर

(राज्य में जिले वार प्रमुख पर्यटक स्थल)
1 से लगा कर 33 जिलो  पर्यटक स्थल
💠1-जयपुर➡️ जन्तर-मन्तर, बिड़ला प्लेनेटोरियम, आमेर, सिटी पैलेस
(मुबारकमहल, दीवान-ए-खास; दीवान-ए-आम), हवामहल,
चन्द्रमहल, जलमहल, रामनिवास बाग, गेटोर की छतरियाँ,
बैराठ, जमवारामगढ़, गणेश मन्दिर, बिड़ला मन्दिर, मोती डूंगरी,सिसोदिया रानी का महल व बाग, जयगढ़ का किला, नाहरगढ़ का किला, गलता जी, केन्द्रीय संग्रहालय, शीशमहल, गोविंद देवजी का मंदिर, देवयानी, शाकंबरी माता का मंदिर (सांभर), शीतलामाता (शील की डूंगरी, चाकसू) ।


💠2. अजमेर- ➡️ढाई दिन का झोपड़ा, ख्वाजा साहब की दरगाह,फॉयसागर, पुष्कर झील, तीर्थराज पुष्कर, ब्रह्माजी का मन्दिर(पुष्कर), तारागढ़ का दुर्ग, आनासागर झील, नसियां जी, चश्मा-ए-नूर, दादाबाड़ी, वाराह मन्दिर व रंगनाथ जी का मन्दिर, सलेमाबाद (निम्बार्क संप्रदाय), मैगजीन (अकबर का किला) टॉडगढ़।

💠3.कोटा-➡️ चम्बल उद्यान, मथुराधीश मन्दिर, बूढ़ादीत का सूर्य मन्दिर, गेपर नाथ, क्षार बाग, विभीषण मन्दिर (कैथून), चारचौमा का शिवालय, हाड़ौती यातायात प्रशिक्षण पार्क, दर्रा अभयारण्य,नीलकंठ महादेव का मन्दिर, जगमन्दिर, लक्खीबुर्ज, कोटा बैराज, कोटागढ़ पैलेस, रंगबाड़ी, अभेड़ा महल, अबली मीणी
का महल, भीम चौरी, मोखरी यूप (बड़वा), राव माधोसिंह
संग्रहालय, कंसुआ का शिव मन्दिर, राजकीय संग्रहालय, बाड़ोली।

💠4. जोधपुर-➡️ जसवंत थड़ा, मंडोर, बालसमंद झील, कायलाना झील, मेहरानगढ़ का दुर्ग, उम्मेद भवन, अजीत महल, सच्चियां माता का मंदिर, औसियां, रातानाड़ा का श्रीगणेश मन्दिर, सरदार संग्रहालय, खींचन, खेजड़ली, तापी बावड़ी, गुलाब सागर, पचकुंड, अरणा-झरना, भद्राजूण का किला, नाथू का दुर्ग (कोटकास्ता)।
💠5.उदयपुर- सहेलियों की बाड़ी (महाराणा संग्रामसिंह द्वारा निर्मित) मोती मगरी, जगनिवास (लेक पैलेस), उदयसागर, पिछोला झील, बागोर हवेली, जगमन्दिर, कृष्ण विलास, आहड़, जगत का अंबिका मंदिर, फतहसागर, एकलिंगजी का मन्दिर, नेहरू गार्डन, गुरु गोविन्द चट्टान बाग, सुखाड़िया सर्किल, सास बहु का मंदिर (नागदा), जयसमंद झील (ढेबर झील), ऋषभदेव का मंदिर (धुलैव)।

💠6.अलवर-➡️ सिलीसेढ, पाण्डुपोल, भर्तृहरि, सरिस्का, तालवृक्ष,मूसीरानी की छतरी, बाला दुर्ग, नलदेश्वर, विनय विलास,नारायणीमाता मन्दिर, तिजारा जैन मंदिर, नौगांवा जैन मंदिर,फतहगंज गुम्बद, विजय मन्दिर महल, नीमराणा का किला,नैड़ा टहला की छतरियां, भानगढ़, राजगढ़ व काँकवारी किला, होप सर्कस, पुर्जन विहार आदि।

💠7.बीकानेर- ➡️जूनागढ़ किला, कोलायतजी, करणीमाता मन्दिर,गजनेर, अनूपमहल, विजय महल, रंगमहल, करण महल,मुकाम, रामपुरिया हवेलियां, लालगढ़ पैलेस, पुरातत्व एवं पाण्डु-लिपि पुस्तकालय एवं संग्रहालय, देवीकुण्ड सागर की छतरियाँ,महाराजा गंगासिंह व सादुलसिह का छतरिया, हेरम्ब गणपति,भांडासर के जैन मंदिर।


💠8.बाड़मेर-➡️ नाकोड़ाजी, किराडू, कोटड़ा का किला, ब्रह्माजी का
मंदिर (आसोतरा), कपालेश्वर महादेव, जूना, मल्लीनाथ
मन्दिर (तिलवाड़ा), चीरातरा माता मन्दिर, बांटाडू का कुआँ,
खेड़ (रणछोड़राय जी का मंदिर), पंचतीर्थ, आलमजी का
मन्दिर, जसोल, गरीबनाथ मन्दिर, सिवाना दुर्ग।


💠9.डूंगरपुर-➡️ गलियाकोट, बेणेश्वर (साबला), धनमाता मन्दिर, बोडीगामा, देव सोमनाथ, भुवनेश्वर, फतेहगड़ी, गैपसागर,विजयराज राजेश्वर मंदिर, संतमाव जी का मंदिर, एक थम्बिया महल, गवरीबाई का मंदिर, नौलखा बावड़ी, उदयबाव, त्रिमुखी बावड़ी।


💠10.बाँसवाड़ा➡️- पराहेड़ा, संगमेश्वर, अधूना, घोटिया आम्बा,जयम्बकेश्वर, हीच का ब्रह्माजी मन्दिर, कपालेश्वर, त्रिपुरा
सुन्दरी, तलवाड़ा का प्राचीन सूर्य मन्दिर, मानगढ़, गोपेश्वर व
देवझूलनी मेला, कालिजरा के जैन मन्दिर, रामेश्वर-घाटी
रणछोड़जी का मेला, कलाजी का मेला, अंदेश्वर व अधूंना के
प्राचीन भानावशेष मन्दिर।


💠11. पाली- ➡️रणकपुर, परशुराम गुफा, मुछाला महावीर, सोमनाथ मंदिर, जवाई बाँध, जूनाखेड़ा, निम्बोकानाथ मेला, सालेश्वर महादेव, सोनाणा खेतलाजी, चोटिला पीर दुल्लेशाह का मेला, वरकाणा मेला, गौतमेश्वर (भूरिया बाबा), सोजत, देसूरी।


💠12. झालावाड़-➡️रैन बसेरा, सात सहेलियों का मन्दिर (चारभुजा का मंदिर), गढ़ भवन, गागरोन किला, नवलखा किला, भवानी नाट्यशाला, चन्द्रावती, नागेश्वर पार्श्वनाथ, बौद्धकालीन गुफाएँ (कौल्यो), चंद्रभागा मेला (झालरापाटन), शातिनाथ जैन मन्दिर, मनोहरथाना का किला, शीतलेश्वर महादेव, चांदखेड़ी का जैन मोदर।




💠13. बारा➡️-ब्रह्माणी माता मन्दिर, शेरगढ़ किला, कपिलधारा, भण्डदेवरा (शिव मन्दिर) जामा मस्जिद, शाहबाद किला, लक्ष्मीनाथ मन्दिर,गडगच्च देवालय, औस्तीजी की बावड़ी, सौताबाड़ी, काकूनी मादि।



💠14, बूंदी-➡️चौरासी खम्भों की छतरी, बूंदी (तारागद) का किला,चित्रशाला, शिकार बुर्ज, भीमतल, खाटकड़ महादेव, बूंदीराजमहल, बांसो दुगारो, फूलसागर, जैतसागर, सुखमहल,क्षारबाग, हिण्डोली का तालाब, श्रीकेशवरायपाटन, रानीजी की बावड़ी, इंद्रगढ़ माता (बीजासन माता का मंदिर) आदि।



💠15. सिरोही-➡️दिलवाड़ा के जैन मन्दिर, नक्की झील, आबू पर्वत, सारणेश्वर महादेव, गोमुख, दूध बावडी, अर्बुदा देवी का मन्दिर, गुरु शिखर, टॉड-रॉक, बसंतगढ़ दुर्ग, अचलगढ़ दुर्ग, गौतम आत्रम, सनसेट प्वाइन्ट, वशिष्ट आश्रम, अचलेश्वर मन्दिर, ब्रह्मकुमारी विश्वविद्यालय।



💠16. राजसमंद-➡️हल्दीघाटी, द्वारकाधीश मन्दिर (कांकरोली), राजसमंद झोल, पिपलाद माता का मंदिर, दिवेर, कुम्भलगढ़, श्रीनाथद्वारा, चारभुजा मन्दिर (गड़बोर) आदि।

💠17. सीकर➡️-खाटू श्यामजी, हर्षगिरी, जीणमाता, रैवासाधाम, गणेश्वर,प्रीतमपुरीआदि।

💠18. सवाई माधोपुर-➡️ चौथ का बरवाड़ा, रामेश्वर घाट, चमत्कारजी, घुश्मेश्वर महादेव, रणथम्भौर बाघ परियोजना, त्रिनेत्र गणेशजी का मन्दिर (रणथम्भौर), काला-गोरा भैरव, अमरेश्वर महादेव आदि।


💠19. जैसलमेर-➡️पटवों की हवेली, सोनार किला, अमर सागर, गजरूप सागर, रामदेवरा, राष्ट्रीय मरु उद्यान, गड़सीसर जलाशय, बादल विलास, तनोट, लोदवा (जैन तीर्थ स्थल), आकल, टीला की पोल, नथमलजी की हवेली, मूल सागर, सम के टीले, वुड फॉसिल पार्क, आपदी व सम्भवनाथ के मन्दिर, सालिम सिंह की हवेली व जवाहर विलास आदि।


💠20. धौलपुर➡️- शेरगढ़ का किला, घण्टाघर (निहाल टावर), मचकुण्ड,दमोह, तालाबशाही, हनुहुंकार तोप, कमल के फूल का बाग,
लम्बी बावड़ी, बाड़ो और, सैपऊ महादेव आदि।

💠21. टॉक-➡️माण्डकला, हाथी भाटा, भूमगढ़, ककोड़ का किला,हाडी रानी, सरद्धा रानी की बावड़ी, संत पीपा की गुफा, सुनहरी कोठी, डिग्गी श्री कल्याणजी, वनस्थली विद्यापीठ, राजमहल।

💠22.झुंझुन-➡️ शाकम्भरी, रानी सती का मंदिर, खेतड़ी महल,(शेखावाटी का हवामहल), लोहर्गल, महनसर, किरोड़ी,मण्डावा, मनसा माता का मन्दिर, नरहड़ दरगाह, डुण्डलोद,नवलगढ़ की हवेलियाँ, टीवा बसई, पिलानी, खेतड़ी व कमरुद्दीन शाह की दरगाह।

💠23. नागौर-➡️दधिमति माता का मन्दिर, मालकोट का किला (मेड़ता सिटी), हमीदुद्दीन को दरगाह, भांवल माता का मन्दिर, कैवाय
माता का मंदिर, राव अमरसिंह राठौड़ की छतरी, मेड़ता को मस्जिद, मीराबाई का मन्दिर (मेड़ता सिटी),खीमसर, अकवर की मस्जिद, जैन विश्व भारती (लाड), कुचामन का किला, चारभुजा नाथ (मेड़ता)।

💠24.➡️ भरतपुर- ययाना का किला, उषा मस्जिद (बयाना), तिमनगढ़,गंगा मंदिर, लक्ष्मण मंदिर, खानवा, लोहागढ़ दुर्ग, केवलादेव
घना राष्ट्रीय पक्षी विहार, वैर का महल व किला, गोपाल भवन व गोपाल सागर (डीग), सूरज भवन, सावन भादो, बंगाली भवन शतरंज कक्ष, नन्द भवन, संगमरमरी झूले आदि।

💠25. दौसा- ➡️हर्षत माता का मंदिर, चांद बावड़ी, आभानेरो, मेंहदीपुर बालाजी, पंचमहादेव, झाझेश्वर महादेव, आलूदा का बुवानियाँ कुण्ड, गेटोलाव, भाण्डारेज की वावड़ियाँ व महल आदि।

💠26. करौली➡️- कैलादेवी का मन्दिर, श्री महावीरजी, शिवरात्रि पशु मेला, करौली के महल, हरसुख विलास उद्यान, मदन मोहनजी
का मन्दिर, कल्याण राय मन्दिर, कबीरशाह को दरगाह।

💠27. जालौर➡️- सिरे मन्दिर, जालौर दुर्ग   (जाबालिपुर, सुवर्णगिरी),आशापुरी मन्दिर (मोदरा), माण्डोली का गुरु मन्दिर, सांचौर,तोपखाना, भीनमाल का वाराह मन्दिर, जागनाथ महादेव, सुन्या
मन्दिर आदि।

💠28.भीलवाड़ा ➡️-तिलस्वा महादेव, महासतियों का टौला (बागौर), चमना बावड़ी, माण्डलगढ़, मेनाल, गंगाबाई की छतरी, शाहपुरा
का रामद्वारा (रामस्नेही संप्रदाय की प्रधान पीठ), केशरीसिंह ,बारहठ की हवेली, आसोंद, विजौलिया, सवाईभोज का मंदिर।

💠29. श्रीगंगानगर-➡️गुरुद्वारा बुड्ढ़ा जोहड़ (सिखों का धार्मिक स्थल),लैला-मजनू की मजार (अनूपगढ़), श्रवण टीला, थेड़ी, रंगमहल,
राहूपीर की मजार, शिवपुरी का दुर्ग, फौजुवाला रामदेव मेला (रायसिंह नगर), पंपाराम का डेरा विजयनगर।

💠30. चित्तौड़गढ़➡️- कीर्ति स्तम्भ, विजय स्तम्भ, कुम्भा महल, कुंभ श्याम मंदिर, संत रैदास की छतरी, जयमल पता की छतरियां,सीतामाता अभ्यारण्य, मीरा मन्दिर, फतह प्रकाश महल, बाड़ौली
का शिवमंदिर, चित्तौड़गढ़ दुर्ग, सांवलियाजी का मन्दिर, पद्मिनी
महल, सतबीस देवरी, शृंगारचंवरी, असावरा माता का मंदिर,
मातृकुंडिया राशमी, सोमद्धेश्वर, नगरी, चूलिया प्रपात ।

💠31. चूरू-➡️ सालासर बालाजी मन्दिर, तिरुपति बालाजी व द्रोणपुर मन्दिर, ददरेवा, चूरू का किला (चांदी के गोले बरसाने वाला किला), तालछापर।

💠32. हनुमानगढ़- ➡️भटनेर दुर्ग, कालीबंगा, भगवान शांतिनाथ का मन्दिर, शिवबाड़ी (संगरिया), छोटूराम मेमोरियल म्यूजियम (संगरिया), गोगामेड़ी को मेला (नोहर), गंगमूल डेयरी, मामा- भानजा की कब्र, बुद्ध कक्ष, स्वामी केशवानन्द का स्मृति कक्ष, पुरातत्व कक्ष।

💠33. प्रतापगढ़-➡️गोमतेश्वर का मंदिर व मेला, थेवा चिंत्राकन, सीतामाता अभयारण्य।


{{राजस्थान के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल
राजस्थान के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक पर्यटन
राजस्थान के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल PDF
राजस्थान के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक
पर्यटन स्थल
राजस्थान के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल
राजस्थान के महत्वपूर्ण प्रश्न
 राजस्थान के महत्वपूर्ण किले
राजस्थान के महत्वपूर्ण युद्ध
 राजस्थान के महत्वपूर्ण दुर्ग
राजस्थान के महत्वपूर्ण दिवस}}



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ