Ads

भारत की वनस्पति व वन्य जीव जानिए विस्तार से | Natural Vegetation of India & Wild Life

 



➡️भारत में हिमालय के पर्वत, भाबर तथा तराई, पश्चिमी
घाट, पूर्वी घाट, बुंदेलखंड, बघेलखंड, छोटा नागपुर का
पठार, नीलगिरि तथा प्रायद्वीपीय भारत की पहाड़ियाँ मुख्य
भारतीय वन प्रदेश हैं । प्रायद्वीपीय भारत के अन्तर्गत सबसे
अधिक वन क्षेत्र आता है जो भारत के कुल वन क्षेत्र का 57
प्रतिशत हिस्सा है। हिमालय प्रदेश देश का दूसरा सबसे
बड़ा वन क्षेत्र है जो देश के कुल वन क्षेत्र का 18 प्रतिशत
हिस्सा है। देश के उत्तरी पश्चिम भाग में बहुत कम वन हैं।

⏺️भारतीय वन सर्वेक्षण रिपोर्ट, 2019 (इंडिया स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट, 2019)⏺️


👉भारत वन स्थिति रिपोर्ट को वर्ष 1987 से 'भारतीय वन
सर्वेक्षण', देहरादून द्वारा द्विवार्पिक आधार पर प्रकाशित
किया जा रहा है। केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु
परिवर्तन मंत्रालय ने 30 दिसम्बर, 2019 को 16वीं भारत
वन सर्वेक्षण रिपोर्ट, 2019 जारी की।

• 👉रिपोर्ट के अनुसार भारत में कुल वनक्षेत्र (वनावरण एवं
वृक्षावरण) 8,07,276 वर्ग किमी. हो गया है जो कि देश के
कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का 24.56% है। वर्ष 2019 में 2017 की तुलना में वन क्षेत्र में 5188 वर्ग किमी. की वृद्धि (0.65% वृद्धि हुई है। 2017 में वनक्षेत्र 802088 वर्ग किमी, था।

• 👉कुल वन क्षेत्र में वनावरण (forest cover) 712249 वर्ग किमी. (भौगोलिक क्षेत्र का 21.67%) एवं वृक्षावरण
(Tree Cover) 95027 वर्ग किमी. (कुल भौगोलिक क्षेत्र
का 2.89%) है।

• 👉वर्ष 2017 की तुलना में 2019 में वनावरण क्षेत्र में कुल 3976 वर्ग किमी. (0.56%) एवं वृक्षावरण क्षेत्र में 1212 वर्ग किमी. (1,29%) की वृद्धि हुई है।

⏺️वैधानिक दृष्टिकोण से देश में वनों को तीन श्रेणियों में
वर्गीकृत किया गया जिनकी स्थिति इस प्रकार थी :


1.आरक्षित वन (Reserved Forests): ➡️ये जलवायु की दृष्टि से अधिक महत्वपूर्ण बन हैं, जिनमें लकड़ी काटने व
पशु चराई पर पूर्ण प्रतिबंध होता है। ये वन सरकार के
प्रत्यक्ष पर्यवेक्षण में रहते हैं। वन रिपोर्ट 2019 के अनुसार
भारत में ये वन 434853 वर्ग किमी.(2017 में 4,34,705 वर्ग किमी.) क्षेत्र में विस्तृत हैं।

2. रक्षित वन (Protected Forests): ➡️इन वनों में सीमित मात्रा में वन विभाग की अनुमति सेसूखी लकड़ी की कटाईव पशु चारण की सुविधा प्रदान की जाती है। वन रिपोर्ट 2019 के अनुसार भारत में ये वन 218924 वर्ग किमी.(2017 में 2.19,432 वर्ग किमी) हैं।

3.अवर्गीकृत वन (Unclassified Forests): ➡️ये निम्न श्रेणी के छितरे वन हैं। इनमें पशु चराई व लकड़ी काटने पर प्रतिबंध नहीं होता है। वन रिपोर्ट 2017 के अनुसार भारत में ये वन 113642 वर्ग किमी.(2017 में 1,13,881 वर्ग किमी) में हैं।
इस प्रकार 2019 की वन रिपोर्ट के अनुसार इन तीनों वर्गों का कुल वन क्षेत्र 767419 वर्ग किमी.(23.34%) है। 

⏺️वनों का प्रशासनिक वर्गीकरण (संविधान के अनुसार):

• 👉राजकीय वनः इन वन क्षेत्रों पर सरकार का पूर्ण नियंत्रण होता है। भारत में लगभग 95% वन क्षेत्र इस श्रेणी में आते हैं। बाढ़ की रोकथाम, भूमि अपरदन से बचाय,
मरूस्थलों के प्रसार को रोकने, वन्य प्राणियों के आवास,
जलवायु संबंधी व भौतिक कारणों और वन क्षेत्रों को बढ़ाने
में इनका महत्त्वपूर्ण योगदान है। भारत के अधिकांश राष्ट्रीय
पार्क व अभयारण्य इसी श्रेणी के वनों के अंतर्गत आते हैं।

👉सामुदायिक या वाणिज्यिक वन इस प्रकार के वनों पर
नगर निगम, नगर परिषद, नगर पालिकाओं, जिला परिषदों
आदि का नियंत्रण होता है। भारत में 3% वन इसी श्रेणी में
आते हैं। स्थानीय ईंधन की आवश्यकता पूर्ति तथा बंजर
भूमि के उपयोग में इनका विशेष महत्त्व है।

• 👉व्यक्तिगत वनः इसमें व्यक्तिगत स्तर पर लगाए गए वन
सम्मिलत हैं। भारत में 2 प्रतिशत वन इस श्रेणी में आते हैं।



भारत में पाए जाने वाले वनों का वर्गीकरण कीजिए
भारत में अधिकतर किस प्रकार के वन पाए जाते हैं
भारत में वन
भारत में वन सम्पदा
भारत में वन आवरण
भारत में वन क्षेत्र
भारत में वन के प्रकार
भारत में वन रिपोर्ट
भारत में वन रिपोर्ट 2019



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ