Ads

गुप्त काल (319 ई.–550ई.) | गुप्त का राजा चंद्र गुप्त की जानकारी | Gupta period (319 AD – 550 AD)

गुप्त काल (319 ई.–550ई.)
–गुप्त काल को भारतीय इतिहास का स्वर्ण युग कहा जाता था

श्री गुप्त– 🔷यह गुप्त वंश का संस्थापक था
🔷 इस की उपाधि महाराज से मिलती है
🔷 प्रारंभिक गुप्त शासक कुशा  के समान हुआ करते थे

Note 🚫 उसके बाद उसका बेटा गटोज गट आया  और गटोज गज का पुत्र चंद्रगुप्त प्रथम आया । 

चंद्रगुप्त प्रथम – 🔷 चंद्रगुप्त प्रथम यह गुप्त काल का वास्तविक संस्थापक था। 
🔷 इसके उपाधि महाराजाधिराज से मिलती है
🔷 लिच्छवी  की राजकुमारी कुमार देवी से विवाह किया
🔷 यह गुप्त वंश का प्रतापी राजा था
🔷 319ई. मैं इसका राज्यरोहण व  गुप्त संवत की स्थापना की
🔷 उसने भारत में सोने के सिक्के चलाएं
🔷 उसने तीन प्रकार के सोने के सिक्के चलाएं
   1. विवाह प्रकार के सिक्के
   2. राजा रानी सिक्के
   3. लिच्छवी प्रकार के सिक्के
🔷 उसके बाद उसका पुत्र समुद्रगुप्त था ।

चंद्रगुप्त प्रथम

Chandragupta Pratham

चंद्रगुप्त प्रथम किसका पुत्र था

चंद्रगुप्त प्रथम की पत्नी का नाम

चंद्रगुप्त प्रथम के सिक्के

चंद्रगुप्त प्रथम की उपाधि

चंद्रगुप्त प्रथम का उत्तराधिकारी कौन था

चंद्रगुप्त प्रथम की उपलब्धियां क्या थी

चंद्रगुप्त प्रथम की मुद्राओं की विशेषताएं

चंद्रगुप्त प्रथम इतिहास

चंद्रगुप्त प्रथम की

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ