Ads

रोपवे क्या होता है | रोपवे क्या है | रोपवे इन राजस्थान | what is ropeway

रोपवे

राज्य में रोपवे की सुगमता से स्थापना के उद्देश्य से राजस्थान रज्जुमाग अधि. 1986 तथा इस अधिनियम के तहत राजस्थान रज्जुमार्ग नियम 2002 है





संचालित रोपवे- राज्य में इस समय तीन रोपवे संचालित हैं। 




1. सुंधामाता मंदिर (जालौर) रोपवे : यह राज्य का पहला रोपवे है, जो जालौर जिले में भीनमाल स्थित ऐतिहासिक धार्मिक स्थल सुंधा पर्वत पर सुंधामाता मंदिर पर संचालित है। इस रोपवे की लंबाई 800 मीटर है। यह सुंधामाता प्राइवेट लिमिटेड की ओर से चलाया गया है। 2009 में बीच में ही अटक जाने के कारण यह चर्चा में रहा।



2. मंशापूर्ण करणी माता मंदिर (उदयपुर) रोपवे : यह राज्य का दूसरा रोपवे है जो 8 जून 2008 से संचालित है। रोपवे का सफर पं. दीनदयाल पार्क से माछला मगरा स्थित करणी माता तक 4 मिनट का है। रोपवे की लंबाई 387 मीटर है।




3. सावित्री माता मंदिर (अजमेर) रोपवे : यह राज्य का तीसरा रोपवे है जो 3 मई 2016 से संचालित हुआ है। इस रोपवे की लंबाई 700 मीटर है। साथ ही ब्रह्माजी की नगरी पुष्कर को टेम्पल टाऊन बनाने की घोषणा की है।



रोपवे

रोपवे क्या होता है

रोपवे क्या है

रोपवे इन राजस्थान

रोपवे राजस्थान

रोपवे किसे कहते हैं

रोपवे उदयपुर

रोपवे का मतलब

रोपवे का अर्थ

रोपवे नदी

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ