बकरी की नस्ले | बकरी की सम्पूर्ण नस्ले pdf | बकरी की प्रमुख नस्ले pdf | Major breeds of goat | goat breed

बकरी की नस्ले 


बकरी से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य 

बकरी काZoological name  = कापरा हिरकस
 
बकरी में गुणसुत्र= 60

◆बकरी का उपनाम = गरीब की गाय( गांधी जी ने कहा था), रनिंग डेयरी, चलता फिरता फ्रीज ,रेगिस्तान का फ्रिज ,वनस्पति का शत्रु, डबल ATM 

◆बकरी के समूह को = फ्लॉक,ट्रिप, बैंड कहते हैं।

◆बकरियों में वयस्क नर को= बक,बिली ।
 
◆बकरियों में वयस्क मादा को= नैनी, गोट | 

◆बकरी का नवजात बच्चा = किड कहलाता है ।

बकरी का मांस = चेवन, चेवनी।

◆बकरी में यौवनारंभ या प्रजनन =8 से 10 माह (आयु )इस बकरी को नैनी कहते हैं  व्यस्त बकरी जो प्रजनन के लिए उपर्युक्त हो 

◆बकरी का मद काल अवधि = 2 से 3 दिन

◆बकरी का मद चक्र अवधि= 21 दिन 

◆कबरी की संभोग  क्रिया = सर्विंग 

◆बकरी का गर्भ काल की अवधि= 150 से 152

◆बकरी में बच्चे को जन्म देने की क्रिया = कीडिंग।

◆बकरी के घर को = पेन या बड़ा कहते हैं ।

◆बकरी की आवाज को= बीट कहते हैं ।

◆बकरी की नाडी= 70 से 80 प्रति मिनट धड़कती है इसे फेमोरल धमनी से मापते हैं।

बकरी के दूध की प्रकृति = क्षारीय

◆बकरी के दूध में गंध= कैप्रिक एसिड के कारण होती है।

◆बकरी के घर में T. B. रोगी के प्रतिरोधी जीवाणु होते हैं ।बकरी का दूध सामान्यत बाई ओर से निकाला जाता है।

भारत में कुल बकरियां= 14. 88 करोड़ 

भारत में सबसे अधिक बकरियां =राजस्थान( 2 .08 करोड़)

राजस्थान में सर्वाधिक बकरियां=  बाड़मेर

◆ राजस्थान में न्यूनतम बकरिया = धौलपुर 

◆राज्य में सबसे बड़ा बकरी प्रजनन फार्म= बलेखन (सीकर)
केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान = मकदूम (up)मथुरा 
◆बकरी एवं चारा अनुसंधान केंद्र= रामसर गांव अजमेर( 1982)
बकरी एवं भेड़ अनुसंधान केंद्र = अविकानगर (टोंक )
◆वरुण गांव नागौर बकरियों के लिए प्रसिद्ध है ।
     

      

             बकरियों की प्रमुंख नस्ले

             
(1) जमुना पूरी (जमनापारी )
उत्पत्ति स्थान= इटावा( यूपी )
जमुना पूरी का विस्तार = चंबल, यमुना नदी के आसपास का क्षेत्र
जमुना पूरी का राजस्थान में  = भरतपुर ,धौलपुर
जमुना पूरी की शारीरिक विशेषता =
यह आकार में सबसे बड़ी बकरी की नस्ल है ।
जमुना पूरी की रोमन नाक पाई जाती हैं ।
चेहरे की बनावट तोते जैसी होती हैं ।
जमुना पूरी का रंग = भूरा 
जमुना पूरी में द्वी प्रयोजनीय नस्ल ( मांस व दूध )
गर्दन लंबी, पिछले पैरों पर बाल होते हैं ।
जमुना पूरी के लंबे लटकते कान होते है ।
ग्रामीण इलाकों में पालने के लिए सबसे उपयुक्त।
 उपयोगिता = दूध उत्पादन 1.5 से 2 किलोग्राम प्रति दिन
 इस नस्ल को जादुई बकरी कहते हैं।
 वसा = 3 .5 से 5%
भार= नर=90 kg , मादा = 60 kg

( 2 )बारबरी =
 बारबरी का उपनाम = शहर की कामधेनु ,डेयरी बकरी, सिटी गोट के नाम से जानी जाती हैं।
बारबरी की उत्पत्ति स्थान = पूर्वी अफ्रीका  (सोमानिया का बरबरा क्षेत्र)
 बारबरी का विस्तार = दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश 
बारबरी का राजस्थान में सर्वाधिक= अलवर ,भरतपुर 
बारबरी की शारीरिक विशेषता=
 शरीर त्रिकोनाकार आकार का होता हैं।
सबसे सुंदर नस्ल की बकरी ।
बारबरी का रंग= सफेद( कत्थई रंग के धब्बे )
स्टॉल के लिए उपयुक्त
 शहरी क्षेत्रों में बांधकर पाली जाने वाली सबसे उपर्युक्त बकरी है 
एक बार में 2 बच्चे देती हैं 12 से 15 माह में दो बार बच्चे देती है( हर बार जुड़वा बच्चे देती हैं)
 बारबरी के कान = छोटे हिरण के समान होते है 
द्विप्रयोजनी नस्ल है
 दूध उत्पादन = 1 से 1.5 किलोग्राम प्रति दिन 
वसा 4 .5 से 5% 
बकरे का वजन = 38 kg , बकरी का वजन =28 kg

(3) बीटल
बीटल का उत्पत्ति स्थान = गुरदासपुर (पंजाब )
बीटल का विस्तार= पंजाब ,पाकिस्तान
बीटल की शारीरिक विशेषता=
बीटल का रंग काला (कत्थई रंग के धब्बे )
 नर पशु में दाढ़ी पाई जाती हैं ।
लंबे कान एवं सिंग पीछे की ओर मुड़े हुए होते हैं ।
रोमन नाक (जमुना पूरी नस्ल के समान )
उपयोगिता= द्विप्रयोजनी नस्ल
 दूध =  1.8 किलोग्राम प्रति दिन 
वसा 4 .5%

(4)  टोकन बर्ग =
टोकन बर्ग की उत्पत्ति स्थान= टोकनवर्ग बड़ी( स्विजरलैंड )
टोकन बर्ग की शारीरिक विशेषता =
टोकन बर्ग का रंग भूरा (कत्थई रंग के धब्बे )
सिंग रहित एवं रंग चॉकलेट जैसा।
 टोकन बर्ग के पिछले हिस्से पर घने लंबे बाल।
टोकन बर्ग के घुटने के नीचे के पैर सफेद ।
सबसे लंबा दूधकाल इस नस्ल का होता है।
 दउपयोगिता= दूध =5से 6 किलोग्राम प्रति दिन ।
वसा=  3 से 4 %
 इस नस्ल में नियमित रूप से दूध देने की क्षमता होती है। (लगभग 2 वर्ष)
 
(5) सिरोही
उत्पत्ति स्थान=  सिरोही (राजस्थान), पालनपुर( गुजरात)
 विस्तार=  अजमेर ,भीलवाड़ा ,उदयपुर 
शारीरिक विशेषता = पीठ पर हल्का जुकाम होता है। ढलान दार या धनुषाकार पिट होती हैं ।
कान लंबे बाल लटकते हुए।
 पूछ मुड़ी हुई घने बालों से ढकी हुई ।
उपयोगिता = 
द्विप्रयोजनी नस्लें ।
दूध उत्पादन = 1 से 1.5 किलोग्राम प्रति दिन 
वसा = 4% 

         बकरी की अन्य महत्वपूर्ण नस्लें

                  
(1)सानेन =
 उत्पत्ति स्थान=  स्विजरलैंड ।
विश्व में सबसे कम गर्मी सहन करने वाली बकरी की नस्ल ।
रंग =सफेद, हल्का भूरा या क्रीम ।
इसके नाक, कान अयन पर काले धब्बे ।
दूध की रानी( मिल्क क्रीम )कहते हैं ।
नर व मादा दोनों में दाढ़ी पाई जाती हैं ।
दूध उत्पादन = 800 लीटर प्रति ब्याज 
वसा 4%

(2) अंगोरा
उत्पत्ति स्थान = टर्की ( मध्य एशिया ) 
अच्छे प्रकार का रेशा जिसे मोहर कहते हैं ।
अंगोर किस्म की ऊन= खरगोश से प्राप्त होती हैं ।

(3)मारवाड़ी =
उच्च रोग प्रतिरोधक क्षमता ।

(4) मालबरी = केरल।

(5)  ब्लैक बंगाल= पश्चिम बंगाल ।

(6) चंग चगी
अन्य नाम=  पश्मीना 
पश्मीना ऊन प्राप्त होता है ।
लद्दाख या हिमाचल प्रदेश में पाई जाती हैं ।

(7) एल्गो  न्यूबियन
उपनाम = जर्सी गाय 
जमुनापारी मादा तथा न्यूबियन नर से प्राप्त नस्ल ।


बकरी की नस्ल
बकरी की नस्ल pdf
बकरी की नस्ल और कीमत

बकरी की नस्ल राजस्थान

बकरी की नस्लों के नाम

बकरी की नस्लों के नाम pdf

बकरी की नस्ल कौन-कौन सी है

बकरी की नस्ल के नाम
बकरी की नस्ल की जानकारी

बकरी की नाटक

बकरी की नस्ल बताए

बकरी की नस्ल राजस्थान
बकरी की नस्ल बताओ

बकरी की नस्ल दिखाएं
बकरी की नस्ल दिखाओ

बकरी की नस्ल बताए

बकरी की नस्लों के नाम

बकरी की नस्ल और कीमत

बकरी की प्रमुख नस्ले

बकरी की प्रमुख नस्ले pdf

बकरी की प्रमुख नस्ल

बकरी की प्रमुख रचनाए

राजस्थान में बकरी की प्रमुख नस्ले
bakri ki nasl ke naam pdf

bakri ki nasl hai

bakri ki nasl in rajasthan

bakri ki nasl ki jankari

bakri ki nasl kaun si hai

bakri ki pramukh nasl

bakri ki unnat nasl

बकरी nasl

rajasthan mein bakri ki nasl

bakri ki nasal

राजस्थान में बकरी की नस्ल

राजस्थान में बकरी की नस्ल pdf

राजस्थान में बकरी की प्रमुख नस्ले

राजस्थान में बकरी पालन

राजस्थान में बकरी अनुसंधान केंद्र

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ