Ads

भैंस की नस्ले | भारत में भेस की नस्ले | भेस की नस्ले सम्पूर्ण जानकारी | breed of buffalo

         🐄 भैंस की नस्ले 🐄




भैंस का Zoological name = बुबेल्स बुबेलिस
भेस का कुल = बोविडी
भेस के गुणसुत्र = 50 भारतीय गुणसूत्र , 48 विदेशी गुणसूत्र 

भैंसे दो प्रकार की होती हैं। 

(1) नदी में रहने वाली
(2) दलदल में रहने वाली
 
(1) नदीमें रहने वाली भैसे= पानी में तैरना पसंद करती है । गर्मी सहन करने की क्षमता होती है ।
 रंग = काला ।
दूध उत्पादन के लिए पालना।

(2) दलदल में रहने वाली भैसे= कीचड़ में बैठना पसंद करती है। गर्मी सहन करने की क्षमता होती है।   रंग =तांबे का रंग। पालने का उद्देश्य है= मांस।
भारत को भेसों की जन्म स्थली कहां गया है ।
भारत में भैंसों की मान्यता प्राप्त नस्ल =16
राष्ट्रीय पशु आनुवंशिक संसाधन ब्यूरो करनाल( हरियाणा) इसके अनुसार भारत में मान्यता 
 प्राप्त नस्लें= 13

प्रोठ नर = भैसा ।
प्रोठ मादा = भैंस ।
वयस्क नर = बफेलो काॅफ (पाड़ा)।
वयस्क मादा= बफेलो हिफर( पाड़ी )।
भैसो में बदियाकृत नर = बुलक।
भैंसों में यौवनारंभ= 28 से 30 माह ।
भैंसों में मदकाल = 24 घंटे ।
भैंसों में संभोग या मिथुन की क्रिया= सर्विंग ।
भैंस में मद चक्र= 21 दिन ।
भैंस का गर्भकाल = 310 दिन।
भैंसो में बच्चे देने की क्रिया या प्रसव क्रिया = कोविंग।
भैंस का मांस= बफन (भारत) , कैरा , बिफ ( विदेशी)।
भैंसो के समूह को =हर्ड।
भैंसो के पानी में बैठने की क्रिया= वेलोइंग।
भैंसो की नाड़ी की गति= 40 से 50 प्रति मिनट 
भैंस के शरीर का तापमान= 37.5 °c 
विश्व में सर्वाधिक भैसे= भारत ।
भारत में सर्वाधिक भैसे= (1) उत्तर प्रदेश ,(2) राजस्थान ।
राजस्थान में सर्वाधिक भैंसे= जयपुर ।
भारत में कुल भैंसे= 10 .98 करोड़ ।
राजस्थान में कुल भैंसे= 1. 37 करोड़ ।
भारत में कुल दूध उत्पादन में भैसो का योगदान= 52% 
केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान = हिसार( हरियाणा)
मुर्रा भैंस प्रजनन केंद्र = कुम्हेर (भरतपुर )
राज्य में भैंस अनुसंधान केंद्र = वल्लभनगर (उदयपुर)


                 🐄 भैंस की प्रमुख नस्ले 🐄

                 
(1) मुर्रा
अन्य नाम = दिल्ली बफेलो , ब्लैक ब्यूटी, खुंडी भैंस, देहली भैंस।
उत्पत्ति स्थान= दिल्ली, हरियाणा ,पंजाब ।
राजस्थान में= अजमेर ,भरतपुर ।
शारीरिक विशेषता= सबसे सुंदर नस्ल की भैंस।
यह सबसे अधिक काले रंग की होती है ।
पूछ के ऊपर सफेद धब्बे होते हैं। 
इसके सिंग जलेबी के आकार के होते हैं।
व्यापारिक दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण भैंस की नस्ल ।
इसके मुंह पर सुनहरे बाल होते हैं।
उत्पादन = दूध उत्पादन = उत्तरी भारत में सर्वाधिक दूध उत्पादन करने वाली नस्ल 2000 से 2500 लीटर / ब्यात।
वसा = 7% 
मुर्रा भैंस प्रजनन केंद्र = कुम्हेर ( भरतपुर)।

(2) जाफराबादी =
उत्पत्ति स्थान = काठियावाड़ (गुजरात ) गिर गुजरात का जंगल
अन्य नाम= मिनी एलीफेंट ,भावनागिरी।
शारीरिक विशेषता= भैंस की सबसे बड़ी एवं भारी नस्ल ।
सबसे कम दूध काल में अधिक दूध उत्पादन ।
2004 में इसे सर्वश्रेष्ठ मादा जानवर का पुरस्कार मिला ।
माथा मंदिर के गुमट के समान ।
सिंग का ऊपरी भाग चलेदार।
सिंग गर्दन के दोनों और चुके होते हैं।
दुग्ध काल = 7 महीने ।
दुग्ध उत्पादन 1800 से 2700 लीटर / ब्यात।
वसा= 7 से 9% 

(3) भदावरी
उत्पत्ति स्थान= आगरा एवं इटावा जिला( उत्तर प्रदेश) एवं भदावर , ग्वालियर (मध्य प्रदेश )।
राजस्थान में सर्वाधिक= भरतपुर ,धौलपुर (पूर्वी राजस्थान)
 शारीरिक विशेषता= रंग = तांबे जैसा।
दो सफेद लाइने गर्दन के नीचे पाई जाती हैं।
सिंह छोटे एवं मुड़े हुए।
इसके अयन पूर्ण विकसित ।
आयन का रंग गुलाबी ।
दूध शिराएं स्पष्ट दिखाई देती हैं ।
इसे Bullock अधिक गर्मी सहन करने वाले होते हैं।
इसके आगे का भाग पतला तथा पीछे का भाग छोड़ा इसलिए इसका आकर त्रिभुजाकार होता हैं।
दुग्ध उत्पादन= 1100 से 1200 लीटर / ब्यात ।
इस नस्ल में सर्वाधिक मात्रा में वसा पाई जाती है लगभग 12 से 13% ।

(4) सुरती=
उत्पत्ति स्थान =बड़ौदा( गुजरात), खेड़ा( गुजरात )।
शारीरिक विशेषता = इसके सिंग धराली आकार के।
रंग = काला बादामी ।
जबरे व अधर वृक्ष के यहां सफेद पट्टी।
दुग्ध उत्पादन = 900 से 1300 लीटर / ब्यात।
यह सबसे छोटे आकार की भैंस है ।
वसा = 7 .5%।
यह राजस्थान में बांसवाड़ा डूंगरपुर में पाई जाती है।
 इसे सिटी बफेलो कहते हैं।
 
(5) नीली=
उत्पत्ति स्थान = फिरोजपुर (पंजाब) तथा मोटगोमरी (पाकिस्तान )
उपनाम = मंच कल्याणी ।
शारीरिक विशेषता =
इसकी आंखें सफेद पाई जाती है इसलिए इसे वाइट आइस कहते हैं।
इस नस्ल में दाढ़ी पाई जाती हैं।
शहरी क्षेत्रों के लिए सबसे अच्छी नस्ल ।
माथे के ऊपर सफेद टीका ।
इसके मुंह व पैर तथा पूछ का अंतिम भाग सफेद होता है।
यह नस्ल रावी व सतलज नदी के आसपास पाई जाती हैं। इसलिए इसे नीली रावी कहते हैं ।
दुग्ध उत्पादन = 1500 से 1800 लीटर / ब्यात ।
वसा = 4% ।

( 6) मेहसाणा
उत्पत्ति स्थान = मेहसाणा एवं बड़ौदा क्षेत्र( गुजरात )।
शारीरिक विशेषता = 
मेहसाणा = मुर्रा एवं सुरती नस्ल से प्राप्त नस्ल ।
सबसे लंबा दुग्ध काल= 352 दिन।
पूछ पर सफेद धब्बे ।
वसा 6 से 7% ।
दुग्ध उत्पादन 1300 से 1500 लीटर/ब्यात।

(7) नागपुरी =
उत्पत्ति स्थान= नागपुर (महाराष्ट्र )
अन्य नाम= इलिजकुरी , मराठवाड़ा , बैरागी ।
शारीरिक विशेषता = 
 तलवार की आकार के सींग ।
यह भारत में सबसे हल्की भैंस है।
 दुग्ध उत्पादन= 1000 लीटर / ब्यात।
वसा= 7 % ।

(8) टोडा=
उत्पत्ति स्थान = दक्षिण भारत की नीलगिरी पहाड़ियां ।
संपूर्ण शरीर के ऊपर पतली भारी बालों की परत ।
यह नस्ल झुंड बनाकर बाग से अपनी रक्षा कर सकती हैं।
 सबसे लड़ाकू नस्ल की भैंस ।
 
(9) पंडनपुरी
उत्पत्ति स्थान = महाराष्ट्र ।

                   कुछ महत्वपूर्ण बिंदु
भैंस अनुसंधान संस्थान = हिसार( हरियाणा) ।
भैंस प्रजनन केंद्र = वल्लभनगर (उदयपुर)।
मुर्रा भैंस प्रजनन केंद्र = कुम्हेर (भरतपुर) ।

Read more

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ