Ads

लोकदेवता पाबूजी | पाबूजी राठौड़ | लोकदेवता पाबूजी की सम्पूर्ण जानकारी | पाबूजी Pabuji | Lokdevata Pabuji Rathore Biography

           लोकदेवता पाबूजी राठौड़ 


पाबूजी का जन्म = 1239 ई. 
पाबूजी की जन्म स्थल= कोलूमंड( जोधपुर ) 
पाबूजी के पिता का नाम= धांधल जी राठौड़ ।
पाबूजी की माता का नाम = कमला दे ।
पाबूजी के गुरु का नाम = समरथ भारती ।
पाबूजी का अवतार = लक्ष्मण ।
पाबूजी की पत्नी का नाम = फुलम दे/सुप्यार दे ( अमरकोट के राजा सूरजमल सोडा की पुत्री है) 
पाबूजी की घोड़ी का नाम = केसर कालवी (देवल चारणी की घोड़ी थी)
पाबूजी की बहनोई का नाम =  जिंदराव खिची ।
पाबूजी तथा उनके बहनोई जिंद राव खिची के बीच देचू का युद्ध हुआ था।

  ⚔️   देचू का युद्ध ⚔️(1276ई. )(देचू गांव जोधपुर )
➡️पाबूजी + बूठो जी तथा जिंद राव खींची के मध्य यह युद्ध हुआ था ।इस युद्ध में पाबूजी तथा बूठो जी वीरगति को प्राप्त हुए थे। देवल चारणी की गायों की रक्षा करते हुए पाबूजी वीरगति को प्राप्त हुए 
इस युद्ध का कारण=  जिंद राव खिची देवल चारणी की गाय ले गया था।
➡️ पाबूजी के भतीजे का नाम = झरड़ा जी / रूपनाथ जी/  हिमाचल प्रदेश में इन्हें बालक नाथ जी कहा जाता है ।उन्होंने जिंदराव खिची की हत्या की पाबूजी का मंदिर=  कोलूमंड (जोधपुर )
पाबूजी का मेला=  क्षेत्र अमावस्या को भरता है ।
➡️इनकी आराधना में थाली नृत्य किया जाता है ।


पाबूजी के वाद्ययंत्र
  

(1)माट= पाबूजी के पवाडे (लोक गाथा)  गाते समय इस वाद्य यंत्र का प्रयोग किया जाता है । 
(2) रावण हत्या = पाबूजी की फड़ का वाचन करते समय इस वाद्य यंत्र का प्रयोग किया जाता है ।

पाबूजी की फड़ = सबसे प्रसिद्ध व सबसे छोटी फड़ हैं ।

पाबूजी के उपनाम = ऊंटों के देवता 
                             गौ रक्षक देवता 
                             प्लेग रक्षक देवता 

पाबूजी से संबंधित ग्रंथ=

(1) पाबू प्रकाश = इसके लेखक आशिया मोड़ जी हैं ।
(2) पाबूजी री बान=  इसके लेखक लक्ष्मी कुमारी चुंडावत हैं।
(3) पाबूजी रो छंद= इसके लेखक बिठु सुजा है ।
पाबूजी के सहयोगी= चांदा , डामा,हरमल ।
पाबूजी के सर्वाधिक अनुयाई = रायका, रेबारी ,देवासी जाति |
➡️राज्य में सर्वप्रथम ऊंट लाने का श्रेय प्रभु जी राठौड़ को दिया जाता है ।
ऊठ बीमार होने पर पाबूजी की पूजा की जाती है। 



पाबूजी

पाबूजी Pabuji

पाबूजी की पड़

पाबूजी का जन्म कब हुआ

पाबूजी महाराज

पाबूजी महाराज की पढ़

पाबूजी महाराज का इतिहास

पाबूजी महाराज की कथा

पाबूजी राठौड़ के दोहे

पाबूजी राठौड़ फोटो

पाबूजी राठौड़ की कथा

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ